रूह : Soul

महसूस कर सकती हूं आपके दर्द को
मगर उसे मिटा नही सकती।
देख रही हु रोते हुए दिन रात आपको
मगर आपके साथ बैठकर आंसू बहा नही सकती।
वक़्त ने जो बेरहमी की है हमारे साथ
उससे सामना करके लड़ नही सकती।
दिल करता है भाग के आऊ
ओर लगा लु सीने से आपको
ओर गम भूला दू आपके सभी
मगर जिस्म से जुदा एक रूह हु मैं
मर कर वापस आ नही सकती।
चाह कर भी मैं
जिंदगी और मौत के फासले को मिटा नही सकती।
I can feel you pain
But i can't reduce it
I can see you crying day-night
But i can't control your tears
Time has done  so cruelty with us
But i can't fight with that
I feel like coming to you
And hug you tightly
So that you forget all your pain
But i am just a soul out of a dead body
Though, i want
But i can't cover the distance between life and death.


~Jyoti Yadav

 

 

A WordPress.com Website.

Up ↑