अकेले रास्ते ओर मैं : I & Lonely Road

आज कल मेरा मन अकेले राहों पे चलने को करता है
न तकलीफ है अकेलेपन की न ही कही खो जाने से डर लगता है।
 
ना दर्द होता है ना ही कोई आह निकलती है
बस मन में जलते अरमानो से धुआं कही उठता है।
 
उलझे से कुछ ख्याल हैं बदले से कुछ हाल है
ना खुद कुछ समझने को 
ओर ना किसी को समझाने को मन करता है।
आजकल मन मेरा अकेले राहों पे चलने को करता है।
 

ना उम्मीद किसी के साथ की
ना ख़्वाहिश किसी के हाथ की
आदत नही है अब रोशनी की
बस अंधेरो में खो जाने को मन करता है।
आजकल मन मेरा अकेले राहों पे चलने को करता है।


रास्ते मेरे हमसफर बन गए
हवाये मेरी सहेली हो गई
ना अब किसी इंसान से जी लगाने की मन करता है।
आजकल मन मेरा अकेले रास्तों पे चलने को करता है।


जी करता है बह जाऊ दरिया के संग
ओर लौट के ना आऊ कभी
कल कल करती लहरों के संग शीतल होने का मन करता है।
आजकल मन मेरा अकेले रास्तों पे चलने को करता है।

मिल जाऊ इन हवाओं में
समा जाऊ इन फ़िज़ाओं में
इन वादियों में घुल जाने को मन करता है।
आजकल मेरा मन अकेले रास्तों पे चलने को करता है।

                                               ~Jyoti Yadav
Advertisements

4 Replies to “अकेले रास्ते ओर मैं : I & Lonely Road”

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s