वक़्त – Time Flies

PicsArt_03-10-09.08.06

लम्हो को जोड़ा
तो वक़्त बन गया 
कुछ मुलायम तो
कुछ  सख्त बन गया । 

एक एक घडी को  बिताया है 
एक एक पल को संजोया है । 

कुछ को खोया अगर तो 
कुछ को पाया है । 
जो चले गए वो यादो में है 
जो साथ है वो बातों में है । 

किसी से रूठे तो 
किसी ने मनाया भी है 
किसी ने साथ छोड़ा तो 
किसी ने निभाया  भी है । 

किसी के संग रोये तो 
किसी ने हसाया  भी है  
किसी ने कुछ भुलाया तो 
किसी ने सिखाया भी है । 

ज़िन्दगी  में
आना जाना लगा रहता है लोगो का 
कुछ भीड़ बन जाते है , 
कुछ अज़ीज़ बन जाते है । 

वक़्त एक टुकड़ा है ज़िन्दगी का 
क्या पता कल 
किसी और टुकड़े में मुलाक़ात हो 

आज ही जी लेते है इस ज़िन्दगी को 
क्या पता कल क्या हालात हो । 

~Jyoti Yadav

Copyright ©Jyoti Yadav. All rights reserved. 

 

Advertisements

7 thoughts on “वक़्त – Time Flies

  1. gaurav sharma 10 Mar 2017 — 4:41 am

    I didn’t know we have such a talented poet in our team 🙂

    Like

    1. Thank you Gaurav Sir 🙂

      Like

  2. Samta Jhingan 10 Mar 2017 — 3:09 pm

    All the best dear ! 😘😊

    Like

  3. Bahut khub….
    आज ही जी लेते है इस ज़िन्दगी को
    क्या पता कल क्या हालात हो ।

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close