खूबसूरत

उसने कहा बदसूरत  दिखती हू  मैं ,

मैंने भी पूछ लिए क्यूँ ..???

उसने कहा क्योंकि गरीब हू मैं ,

स्थिर सा रह गया उसका जवाब सुन कर मैं ,

सोचने लगा कही सही तो नहीं कह रही वो ,

आजकल के बदलते ज़माने में खूबसूरती को अमीरी से ही जाना जाता है ।

फिर अंदर से एक आवाज़ आयी  ,

जिसने खूबसूरती की पहचान करवाई ।

मैं  मुडा उसकी तरफ और बोला,

बेशक़ गरीब हो तुम पर खूबसूरत हो तुम ।

उसने कहा कपडे मैले हैं  मेरे ,

मैंने कहा चरित्र साफ़ है तुम्हारा ।

उसने कहा चेहरा मुरझाया है मेरा ,

मैंने कहा आँखों में चमक  है तुम्हारे ।

उसने कहा जूते फटे है मेरे ,

मैंने कहा कदमो में जान है तुम्हारे ।

उसने कहा हाथ गंदे है मेरे ,

मैंने कहा इन्ही में पहचान है तुम्हरी।   ,

उसने कहा फुटपाथ पे रहती हू  मैं ,

मैंने कहा आसमान तले घर है तुम्हारा ।

समझाया मैंने उसे खूबसूरती चेहरे से  नही मन से होती है ,

गरीब है ये सोच कर पगली तू  क्यूँ  रोती  है,

उठ और संघर्ष  कर फिर देख, कैसे फुटपाथ पे भी तू चैन की नींद सोती है ।

कठिनाइयों  से लड़ और डर का सामना कर फिर देख ,

कैसे दुनिया तेरी खूबसूरती की चर्चो के मोतियों को  सफलता की माला में पिरोती है ।

एक बार फिर कहता हु गौर करना, खूबसूरती  चेहरे से  नही मन से होती है।

गरीब है ये सोच कर पगली तू  क्यूँ  रोती  है।

                                                                                                ~ Jyoti Yadav

Copyright ©Jyoti Yadav. All rights reserved.

She said “I am ugly”.

I asked “Why do you feel so”?

 

She said “Because I am poor”.

I was astonished to hear her answer.

 

I started thinking.. What if she is saying right..??

Because in today’s modern world, money is the beauty.

 

Then my inner self made some gesture,

That made me understands true definition of beauty.

 

I turned to her and said

You are beautiful provided you are poor.

 

She said “My clothes are dirty”.

I replied” But your character is clean.”

She said “My face is dull and dark”.

I replied “But your eyes are sparkling”.

She said “My shoes are torn”.

I replied “But your legs are strong”.

She said “My hands are unhygienic”.

I replied “These hands will make your identity”.

She said “I live at footpath”.

I replied “You are living under the open sky”.

 

I made her understand that beauty is by heart not by face.

Why are you crying thinking that you are poor?

Just get up, struggle and see how peacefully you sleep on footpath also.

 

Fight with hurdles, fear and then see,

How this world will talk about your beauty and success,

Once again I am saying, beauty is by heart not by face. Then why are you crying for your poverty.

                                                                                                                               ~ Jyoti Yadav

                                                                               Copyright ©Jyoti Yadav. All rights reserved.

Advertisements

3 Replies to “खूबसूरत”

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s